UP पुलिस ने उठाया बड़ा कदम, अब नकली हेलमेट बनाने और बेचने वालों की खैर नहीं

नई दिल्ली: साइबराबाद पुलिस द्वारा नकली हेलमेट बनाने वाले रैकेट का भंडाफोड़ करने के बाद अब अब UP पुलिस ने भी एक बड़ा कदम उठाया है, जिसके बाद अब नकली हेलमेट बनाने वालों की खैर नहीं. यानी जल्द ही नकली हेलमेट बनाने और बेचने वालों को UP से जड़ से उखाड़ फेंक दिया जाएगा. इस मौके पर गौतमबुद्ध नगर यातायात पुलिस के डिप्टी कमिश्नर ऑफ़ पुलिस, गणेश साह भी मौजूद रहे.

गौतमबुद्ध नगर यातायात पुलिस ने यातायात से संबंधित मुद्दों के बेहतर बनाने और दुर्घटनाओं को रोकने के लिए सड़क सुरक्षा सेल का गठन किया, जो अपने काम में लग चुकी है. प्रेस कांफ्रेंस के दौरान नकली हेलमेट और असली ISI मार्क हेलमेट को दिखाया गया, साथ ही लोगों द्वारा इन हेल्मेट्स को एक हथौड़े द्वारा तोड़ने को कहा गया ताकि पता चल सके कि नकली और असली हेलमेट में कितना बड़ा फर्क होता है.

समारोह में मौजूद एक महिला को दो हेलमेट दिए गये, जिनमें एक असली और दूसरा नकली हेलमेट था, और इनमे से किसी एक हेलमेट को चुनने को कहा गया, उस महिला ने इन दोनों में एक ऐसे हेलमेट को चुना को खूबसूरत और उसमें एक चमक भी थी, लेकिन जब उस हेलमेट पर हथोड़े से वार किया गया था तो एक हल्के से वार से ही टूट गया, यानी वो खूबसूरत सा दिखने वाला हेलमेट नकली हेलमेट था, जिस पर नकली ISI मार्क लगा हुआ था, जबकि असली हेलमेट को हथोड़े के वार से कुछ नहीं हुआ, दोस्तों यही गलती हममें से काफी लोग करते हैं एक नया हेलमेट खरीदते समय. सस्ते के चक्कर में एक ऐसा हेलमेट खरीद लेते हैं जो दिखने में तो अच्छा है लेकिन सड़क हादसे के वक़्त आपकी जान किसी भी कीमत पर नहीं बचा पायेगा.

इस समारोह में गौतमबुद्धनगर यातायात पुलिस ने कुछ नकली हेलमेट को सबके सामने तोड़कर दिखाया, साथ ही NCC के कुछ बच्चों द्वारा भी नकली हेलमेट पर हथोड़े से वार किया गया गया,  एक ही वार में इन नकली हेलमेट के चीथड़े उड़ गये, अब आप खुद सोचिये, क्या ऐसे हेलमेट आपके सिर को बचा सकते हैं.

नाटक के द्वारा भी यही बात समझाने की कोशिश की गई कि नकली हेलमेट पहनने से बचें और यातायात के नियमों का पालन करें.जो लोग पैसे के लालच में अभी भी नकली हेलमेट बना रहे हैं और बेच रहे हैं उनका बचना अब मुश्किल है, क्योंकि नकली हेलमेट बनाने वालों की अब खैर नहीं है, अब पूरे देश में यही मुहीम शुरू होने जा रही है. याद रखिये नकली हेलमेट बेचना, नकली दवाई बेचने के समान है, और यह एक बड़ा अपराध है.

देश में नकली बनाने और बेचने वालों के लिए अब खतरे की घंटी बज चुकी है, हमारी टीम दिल्ली के करोग बाग़ और झंडेवालान पहुंची, ताकि हेलमेट डीलर्स से इस बारे में बात की जा सके, क्योंकि सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक यहां पर नकली ISI मार्के हेल्मेट्स को बेचा जा रहा है, लेकिन ज्यादातर डीलर्स ने हमसे इस बारे में बात नहीं कि, जबकि कुछ ऐसे डीलर्स थे जिन्होंने नकली हेल्मेट्स पर खुलकर बात की. दोस्तों जब आप लाख रुपये की बाइक खरीदते हैं तो भला 400-500 रुपये का नकली हेलमेट क्यों ? जरा सोचिये