SAMSUNG और UNDP ने भारत के लिए ग्‍लोबल गोल्‍स ऐप को किया अपडेट, अब गैलेक्‍सी डिवाइस से कर सकते हैं सामाजिक कार्यों में योगदान

सैमसंग (Samsung) और संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (United Nations Development Program) ने अपडेटेड सैमसंग ग्लोबल गोल्स (Samsung Global Goals) ऐप लॉन्च किया है। जिसके जरिए आप गैलेक्सी डिवाइस (Galaxy device) के माध्यम से सिर्फ एक क्लिक पर सामाजिक कार्यों में योगदान कर सकते हैं। खास बता यह भी है कि फिल्म अभिनेत्री आलिया भट्ट भी सैमसंग ग्लोबल गोल्स ऐप के जरिए सैमसंग इंडिया के साथ काम करेगी। आलिया सैमसंग गैलेक्सी जेड सीरीज के फोल्डेबल स्मार्टफोन का इस्तेमाल करती है।

सैमसंग गैलेक्सी यूजर्स अलग-अलग वविकास परियोजनाओं में दान करके अच्छे कार्यों का हिस्सा बन सकते हैं। जिसमें स्कूली बच्चों को खाना खिलाना, बच्चों के अधिकारों की रक्षा करना, युवा महिलाओं को शिक्षित करना, गरीबी के खिलाफ लड़ाई का समर्थन करना और पेमेंट इंटरफेस (यूपीआई) के जरिये कोविड -19 से प्रभावित पीड़ित परिवारों के नुकसान को कम करने में मदद करना भी शामिल है। सैमसंग के इन-ऐप विज्ञापनों के जरिये सभी इनकम  का मिलान करने के साथ, यूजर्स के जरिये किए गए इन छोटे कामों को बड़ा प्रभाव बनाने के लिए लागू किया जाता है।

सैमसंग इंडिया और संयुक्‍त  राष्ट  विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) ने एक अपडेटेड सैमसंग ग्लोबल गोल्स (एसजीजी) ऐप पेश करने की घोषणा की है जो भारतीय गैलेक्सी स्मार्टफोन  यूजर्स को भारत की विशिष्‍ट परियोजनाओं, जो उनके लिए अधिक मायने रखती हैं, के लिए दान करने में सशक्‍त बनाएगा। सभी परियोजनाएं उन कारणों से जुड़ी हुई हैं जो संयुक्‍त  राष्ट  सतत विकास लक्ष्यों  (एसडीजी) या वैश्विक लक्ष्यों  को आगे बढ़ाने में मदद करते हैं। वैश्विक लक्ष्‍य दुनियाभर की कुछ सबसे बड़ी चुनौतियों का समाधान करते हैं, जिनमें शामिल हैं असमानता, जलवायु और पर्यावरणीय गिरावट और शिक्षा से जुड़े मामले।

इस अवसर पर आलिया भट्ट ने कहा, “वैश्विक लक्ष्यों  में योगदान करने के लिए लोगों को आसान पहुंच उपलब्‍ध कराने में मदद करने और टेक्‍नोलॉजी की मदद से एक बदलाव लाने में सक्षम बनाने के लिए सैमसंग के साथ काम करने पर मुझे गर्व है। सैमसंग के साथ यह भागीदारी मदद करने का एक सामूहिक प्रयास है। मुझे पूरा भरोसा है कि साथ मिलकर हम सैमसंग ग्‍लोबल  गोल्‍स ऐप के माध्‍यम से भारत संबंधि‍त परियोजनाओं को दान दिए जाने वाले धन को जुटाने के लिए अपने संसाधनों और बड़े पैमाने पर किए जा रहे प्रयासों का भरपूर फायदा उठाएंगे।”

वहीं , सैमसंग इंडिया के वाइस प्रेसिडेंट एंड हेड, कॉरपोरेट सिटिजनशिप, पार्था घोष ने कहा, “सैमसंग में, हम दुनिया की सबसे कठिन चुनौतियों का समाधान करने के लिए टेक्‍नोलॉजी की ताकत का उपयोग करने पर विश्‍वास करते हैं। अपडेटेड सैमसंग ग्‍लोबल  गोल्‍स ऐप भारत में गैलेक्सी स्मार्टफोन  यूजर्स, जेन जी और मिलेनिअल यूजर्स सहित, को वैश्विक लक्ष्यों  के बारे में जानने और जो उनके लिए सबसे महत्‍वपूर्ण हैं उन कार्यों को भारत में समर्थन करने के लिए एक आसान माध्‍यम उपलब्‍ध कराएगा। ऐप हमारे दृष्टिकोण #PoweringDigitalIndia को आगे बढ़ाएगा, जिसका लक्ष्‍य युवा भारत की अगली पीढ़ी को सशक्‍त बनाना है।”

सैमसंग की यह सतत पहल वैश्विक लक्ष्यों  की प्राप्ति के लिए लोगों को एक साथ लाने में मदद करेगी। सैमसंग गैलेक्सी यूजर्स को छोटे व्यक्तिगत कदम उठाने के जरिये एक प्रभाव पैदा करने के लिए प्रोत्‍साहित कर रहा है, जो एक सार्थक सामूहिक बदलाव को आगे बढ़ाता है और एक बेहतर सामाजिक भलाई का लक्ष्‍य हासिल करता है। यह नई पीढ़ी और युवाओं के एक बड़े समूह को सशक्‍त बनाता है, जिनके लिए समाज को वापस देना जीवन जीने का एक तरीका है और इसका लक्ष्य उन्हें  एसडीजी की वकालत करने के लिए तैयार करना है।

17 वैश्विक लक्ष्यों को वर्ष 2015 में संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा निर्धारित किया गया था। दुनिया की कुछ सबसे बड़ी चुनौतियों से निपटने में मदद करने के लिए विश्व के प्रमुख नेताओं ने इस पर सहमति व्यक्त की थी। ये 17 परस्पर जुड़े लक्ष्यों का एक समूह है जो 2030 तक सभी के लिए एक बेहतर भविष्य प्राप्त करने की एक रूपरेखा प्रदान करता है।

सैमसंग ग्लोबल गोल्स ऐप, जो 2019 में सैमसंग और यूएनडीपी के बीच साझेदारी के रूप में अस्तित्व में आया। यह वैश्विक लक्ष्यों को लेकर जागरूकता बढ़ाने में मदद करने के आसान तरीके प्रदान करता है। ऐप लोगों को प्रत्यक्ष रूप से दान करने या सिर्फ किसी विज्ञापन को एंगेज़ करने जैसी आसान चीज़ के माध्यम से परिवर्तन लाने में मदद करता है। सैमसंग ग्लोबल गोल्स ऐप वर्तमान में दुनिया भर में 170 मिलियन डिवाइस में इंस्टॉल किया जा चुका है। इसके साथ ही यह दुनिया का सबसे बड़ा चैरिटी ऐप बन गया है। अब तक, ऐप ने वैश्विक लक्ष्यों के लिए 15 लाख अमरीकी डॉलर जुटाने में मदद की है।