सर्वे के मुताबिक भारत में सिर्फ 25प्रतिशत लोग ही सीट बेल्ट लगाते हैं

सर्वे में यह भी बताया गया है कि महिला चालकों के शेयरों में इस अनिवार्य नियम को छोड़ दिया गया है जबकि ड्राइविंग 68 प्रतिशत पर पुरुष प्रतिद्वंद्वियों की तुलना में 81 प्रतिशत  ज्यादा है।

नई दिल्ली ।ऑटो डेस्क। एक ऑटोमोबाइल प्रमुख द्वारा किए गए सर्वेक्षण में पाया गया है कि सड़कों पर चलने वाली हर चार गाड़ियों में से सिर्फ 1 गाड़ी में ही ड्राइवर सीट बेल्ट लगाता है। जबकि दक्षिण भारत में रहने वाले लोग इस लाइफ-सेविंग टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करने से बचते हैं। इतना ही नहीं सर्वे में यह भी बताया गया है कि महिला चालकों के शेयरों में इस अनिवार्य नियम को छोड़ दिया गया है जबकि ड्राइविंग 68 प्रतिशत पर पुरुष प्रतिद्वंद्वियों की तुलना में 81 प्रतिशत  ज्यादा है।

मारुति सुजुकी द्वारा किए गए सर्वे ‘सीटबेल्ट यूज इन इंडिया’ को 17 शहरों में किया गया, जिसमें 2500 ड्राइवर्स और पैसेंजर्स में से 80 फीसद लोगों ने कहा कि सीट बेल्ट का प्रयोग सिर्फ चालान और पुलिस की कार्रवाई के डर से लगाते हैं।

सर्वे के मुताबिक 2016 में 5,638 रोड एक्सीडेंट में 15 लोगों की मृत्यु सीट बेल्ट न लगाने से हुई थी। वैश्विक अध्ययनों के मुताबिक सीट बेल्ट लगाने से एक्सीडेंट के दौरान मृत्यु का जोखिम 45 प्रतिशत तक और गंभीर चोट 50 प्रतिशत तक कम हो जाता है। इसके अलावा जो लोग कार चलाने के दौरान सीट बेल्ट नहीं लगाते हैं, दुर्घटना के दौरान उनके गाड़ी से बाहर आ जाने की संभावना 30 गुना ज्यादा रहती है।

सर्वे रिपोर्ट के मुताबिक सबसे ज्यादा SUV चलाने वाले लोग सीट बेल्ट नहीं लगाते हैं। वहीं, हैचबबैक में 72 प्रतिशत, सेडान में 68 प्रतिशत और लग्जरी कारों में 64 प्रतिशत लोग सीटबेल्ट नहीं लगाते।

दुर्घटना के दौरान सीट बेल्ट लगाने से चोट लगने की संभावना काफी कम होती है लेकिन हैरान करने वाली बात यह है कि फिर भी लोग सीट बेल्ट लगाने से बचते हैं, दोस्तों कार चलाते समय सीट बेल्ट लगाना बेहद जरूरी है।