बजाज और कावासाकी की राहें हुईं अलग, खत्म किया गठजोड़

नई दिल्ली: बजाज और कावासाकी के बीच 10 साल पुराना गठजोड़ अब खत्म हो गया है। दोनों ही कंपनियों ने आपसी सहमती से भारत में बिक्री खत्म करने का निर्णय लिया है। जोकि 1 अप्रैल से लागू होगा। दोनों कंपनियों के बीच भारत में गाड़ियों की ब्रिकी और अन्य सेवायें अगले महीने से समाप्त हो जाएगी।

बजाज ऑटो के अध्यक्ष (प्रोबाइकिंग) अमित नंदी  ने एक बयान में कहा कि बजाज और कावासाकी ने आपसी सहमति से भारत में अपने गठजोड़ को समाप्त कर दिया है। इस समय बजाज ऑटो केटीएम के साथ अपनी भागीदारी पर पर ध्यान केंद्रित कर रही है।

bajaj-kawasaki-motor-tech-india

भारत में अब कावासाकी मोटरसाइकिलों की बिक्री इंडिया कावासाकी मोटर्स प्रा.लि. द्वारा की जायेगी।  यह कावासाकी हैवी इंडस्ट्रीज जापान की पूर्ण स्वामित्व वाली अनुषंगी है।  यह इकाई भारत में में जुलाई 2010 में स्थापित की गई जो कि बिक्री बाद सेवा भी उपलब्ध करायेगी।  कावासाकी के पुराने ग्राहकों को भी बिक्री बाद सेवायें इसी कंपनी से दी जायेगी।

अमित नंदी ने हालांकि कहा है, ‘बजाज और कावासाकी भारत को छोड़कर शेष बाहरी दुनिया में वर्तमान और भविष्य के व्यावसाय के मामले में अपने सहयोगात्मक संबंधों को बनाये रखेंगे।’ बजाज ऑटो ने कावासाकी के साथ अपने प्रोबाइकिंग नेटवर्क के जरिये कावासाकी मोटरसाइकिलों की बिक्री और बिक्री बाद सेवा के लिये 2009 में गठजोड़ किया था।