प्रेगनेंसी में कार चलाते समय इन बातों को नजरअंदाज न करें

नई दिल्ली (ऑटो डेस्क)। ड्राइविंग करना हम सभी को पसंद है। लेकिन जब कोई वर्किंग महिला प्रेग्नेंसी के दौरान शुरूआती पीरियड्स में ऑफिस जाती है या मैटरनिटी लीव के दौरान कहीं बाहर जाना पड़े, और वो भी खुद ड्राइव करके, तो थोड़ी दिक्कत सामने आती है। मसलन कार में उठने-बैठने का सही तरीका कैसा हो? सीट सीट बेल्ट कैसे लगायें वगैरा-वगैरा, तो दोस्तों आज की इस ख़ास रिपोर्ट में हम आपको बता रहे हैं की प्रेग्नेंसी के दौरान अगर आपको ड्राइव करना पड़े तो आप इन जरूरी बातों का ख़ास ध्यान दें ताकि किसी प्रकार की हानि आपको न हो

हमेशा सीट बेल्ट लगायें

प्रेग्नेंसी के दौरान अगर कार ड्राइव करनी हो या बगल वाली सीट पर बैठना हो तो सीट बेल्ट ध्यान से लगाएं। सीट बेल्ट की सही पोजिशन बेहद जरूरी है। सीट बेल्ट को एब्डॉमिनल से नीचे होना चाहिए जबकि कंधो के बगल से गुजरने वाला सीट बेल्ट सीने के बीच निकालें। सीट बेल्ट सही तरीके से लगी है या नहीं इस बात की पुष्टि क्लिप से कर लें।

कमर के पीछे सपोर्ट है बेहद जरूरी

अक्सर प्रेग्नेंसी के दौरान कमर से जुड़ा दर्द परेशान करता है। और जब ड्राइविंग करने की नौबत आ जाए। तो आपको ऐसे में कमर को सपोर्ट देने के लिए एक तकिया आप लगा सकते हैं।

स्टीयरिंग व्हील से दूरी बनाएं रखें

ड्राइविंग के दौरान कोशिश करें की स्टेरिंग व्हील से दूरी बनाये रखें। ताकि गाड़ी चलाते वक्त पेट पर किसी तरह का दबाव महूसस न हो। आप अपनी सहूलियत के हिसाब कार की सीट को आगे-पीछे रखें। ख़ुदा ना खास्ता अगर किसी दुर्घटना के वक्त एअर बैग खुलता है तो उसका सीधा दबाव आपके पेट पर नहीं आएगा।

लॉन्ग ड्राइविंग पर जाने से बचें

अगर आपको इस दौरान लम्बी ड्राइव पर जा रहे हैं तो कोशिश कीजिये कुछ मिनटों का ब्रेक लें ऐसा करने से आपको आराम मिलेगा। इसके लिए आप पैरों को फैलाएं, ऐंकल को घुमाएं और पैर के अंगूठे को हिलाएं। तो ये हैं वो जरूरी टिप्स जिन्हें अपनाकर आप प्रेग्नेंसी में भी ड्राइविंग को ठीक प्रकार से कर सकते हैं।